बिज़नेस लोन

बिज़नेस लोन बिज़नेस लोन प्रकार, ब्याज दर, टर्म लोन बिज़नेस लोन, ओवरड्राफ्ट बिज़नेस लोन, बिज़नेस लोन ब्याज दर को प्रभावित करने वाले कारक, योग्यता, विशेषताएँ, दस्तावेज़

प्रत्येक व्यवसायी चाहता है कि उनका व्यवसाय का विस्तार हो और व्यापार से अधिक से अधिक लाभ हो | व्यवसाय के विस्तार या लाभ को बढ़ाने के लिए व्यवसाय में आये अवसर को समय पर भुनाना आवश्यक है | अवसर को भुनाने के लिए आपको अधिक पैसो की आवश्यकता होती है जिसके लिए आपको ऋण की खोज करनी होती है |

इस बिज़नेस लोन को ग्राहक व्यवसाय की कार्यशील पूंजी के रूप में उपयोग कर सकते है, व्यवसाय से सम्बंधित मशीन या उपकरण खरीदने के लिए, व्यवसाय के खर्चों को वहन करने के लिए या अपनी निजी आवश्यकता जैसे बच्चों की शिक्षा या घर की मरम्मत के लिए कर सकते है |

आज के समय में कई बैंक और नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल संस्थाएं व्यवसायिओं को बिज़नेस लोन प्रदान करती है | आपका सदैव यही प्रयाश रहता है की आपको आवश्यकता अनुकूल ऋण राशि जल्द और न्यूनतम ब्याज दर पर प्राप्त हो जाये | इसके लिए आपको विभिन्न ऋणदाताओं में शोध करने की आवश्यकता होती है |

बिज़नेस लोन सामन्यतः दो प्रकार के होते है

सुरक्षित बिज़नेस लोन

असुरक्षित बिज़नेस लोन

सुरक्षित बिज़नेस लोन सुरक्षित बिज़नेस लोन में ग्राहक को बिज़नेस लोन आवेदक के समय सुरक्षा के रूप में ऋणदाता के पास संपार्श्विक गिरवी रखना होता है | इस प्रकार के ऋणों की ब्याज दर असुरक्षित बिज़नेस लोन की ब्याज दर से कम होती है |

असुरक्षित बिज़नेस लोन यह बिज़नेस लोन संपार्श्विक रहित होते है | आवेदक को ऋण आवेदन के समय किसी प्रकार की ऋण सुरक्षा जमा करने की आवश्यकता नहीं होती है |

सुरक्षित और असुरक्षित बिज़नेस लोन को दो प्रकार से प्राप्त किया जा सकता है

टर्म लोन बिज़नेस लोन

यह परम्परागत ऋणों की तरह होता है | इस ऋण में आवेदक एक निश्चित ऋण राशि एक निश्चित समय के लिए एक निश्चित ब्याज दर पर प्राप्त करते है | प्राप्त धनराशि पर ग्राहक एक निश्चित ईएमआई का भुगतान ऋण अवधि के दौरान ग्राहक करता है |

ओवरड्राफ्ट बिज़नेस लोन

इस प्रकार के बिज़नेस ऋणों में ऋणदाता द्वारा ग्राहकों को उनकी योग्यता और आवश्यकता अनुसार एक निश्चित धनराशि की सीमा तक की लिमिट प्रदान की जाती है | इस लिमिट की अंतिम सीमा तक की धन राशि का उपयोग ग्राहक आवश्यकता अनुसार कम या अधिक निकाल और जमा कर सकता है | ग्राहक जितने समय के लिए और जितनी धनराशि का उपयोग करता है ब्याज भी उन्हें उतनी ही राशि पर, उतने ही समय के लिए देना होता है |

बिज़नेस लोन ब्याज दर

न्यूनतम ब्याज दर पर व्यवसायिक ऋण प्राप्त करना प्रत्येक आवेदक का प्रयाश रहता है | सामन्यतः ग्रहकों को बिज़नेस लोन में ऋणदाता द्वारा रेडूसिंग वार्षिक ब्याज दर पर ऋण प्राप्त होता है | यह ब्याज दर ऋणदाता से ऋणदाता भिन्न होती है | ऋणदाता बिज़नेस लोन में सामन्यतः ब्याज दर 11.50% से शुरू होती है जो ऋणदाता जोखिम अनुसार निर्धारित होती है |

बिज़नेस लोन ब्याज दर को प्रभावित करने वाले कारक

ऋणदाता उसी आवेदक को ऋण कम ब्याज पर देते है जिन के साथ ऋण में जोखिम कम होता है | इसमें ग्राहक का सिबिल स्कोर, व्यवसाय से आय, कारोबार की प्रगति, ऋण चुकौती क्षमता, व्यवसाय निरंतरता आदि महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते है |

  • सिबिल स्कोर आवेदक का सिबिल स्कोर ग्राहक के क्रेडिट इतिहास का सूचक है | यदि ग्राहक ने पुराने क्रेडिटों में समय से भुगतान किया है तो उनका सिबिल अधिक होगा और अनियमित क्रेडिट भुगतान सिबिल स्कोर को गिराते है | अधिक सिबिल स्कोर (750+) ऋणदाता के जोखिम को कम करता है | अतः बिज़नेस लोन आवेदन से पहले पता कर लें कि आपका सिबिल स्कोर क्या है |
  • व्यवसाय से आय ग्राहक की ऋण राशि योग्यता और ब्याज दर ग्राहक की व्यापार से होने वाली आय पर निर्भर करती है | अधिक आय वाले ग्राहक समय पर ऋण भुगतान करने में सक्षम होते है जिससे ऋण की क़िस्त में अनियमितता होने की सम्भवना कम रहती है |
  • कारोबार की प्रगति आवेदक जिस कारोबार को कर रहा है उसमें प्रतिवर्ष प्रगति होनी चाहिए | यानि जितना कारोबार पिछले वित्तीय वर्ष में हुआ था वर्तमान वित्तीय वर्ष में उससे अधिक होना चाहिए | कारोबार की प्रगति की पुष्टि के लिए नवीनतम 2 वर्ष के आईटीआर लाभ और हानि के साथ सीए द्वारा प्रमाणित होने चाहिए |
  • ऋण चुकौती क्षमता आवेदक की ऋण चुकौती क्षमता भी ऋण राशि योग्यता और ब्याज दर में एक अहम् भूमिका निभाती है | यदि ग्राहक की मासिक आय अधिक और खर्चे कम तो ग्राहक की ऋण चुकौती क्षमता बढ़ जाती है | यानि ग्राहक पर अधिक ऋण या क्रेडिट कार्ड ईएमआई का भार नहीं होना चाहिए |
  • व्यवसाय निरंतरता व्यवसाय निरंतरता ग्राहक के व्यवसाय के स्थयित्व का प्रतीक होता है | यदि ग्राहक लम्बे समय से एक ही व्यवसाय में कार्य कर रहा है तो ऋणदाता का आवेदक के व्यवसाय आय के प्रति जोखिम कम होता है |

बिज़नेस लोन योग्यता

  • आवेदक की आयु ऋण आवेदन के समय न्यूनतम 21 वर्ष होनी चाहिए तथा 65 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए |
  • वर्तमान व्यवसाय में 3 से 5 वर्ष का अनुभव होना चाहिए |
  • स्वनियोजित व्यक्ति, प्रोप्राइटर, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी और पार्टनरशिप फर्म जो विनिर्माण, व्यापार या सेवाओं के व्यवसाय में शामिल हैं आवेदन कर सकते है |
  • आवेदक की व्यवसाय से वार्षिक आय नवीनतम आईटीआर के अनुसार सालाना Rs 1,50,000/- या अधिक होनी चाहिए |(न्यूनतम सालाना आय ऋणदाता अनुसार भिन्न हो सकती है )
  • न्यूनतम 2 या 3 वर्ष से वर्तमान व्यवसाय में कार्यरत होने चाहिए |
  • पिछले 2 वर्षो में आवेदक का कारोबार सकारत्मक रूप से प्रगति करना चाहिए | यानि प्रति वर्ष कारोबार में बृद्धि होना आवश्यक है |

बिज़नेस लोन विशेषताएँ

  • यह ऋण सुरक्षित और असुरक्षित दोना प्रकार से प्राप्त किया जा सकता है |
  • व्यवसाय में बृद्धि या निजी आवश्यकता के लिए बिज़नेस लोन प्राप्त किया जा सकता है |
  • आकर्षक ब्याज दर पर ऋण प्राप्त कर सकते है |
  • आवश्यकता अनुसार न्यूनतम 12 माह से अधिकतम 84 माह तक के लिए प्राप्त किया जा सकता है |

बिज़नेस लोन दस्तावेज़

  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • आवेदन पत्र
  • निवास का प्रमाण पासपोर्ट / ड्राइविंग लाइसेंस / आधार कार्ड / मतदाता पहचान पत्र
  • पहचान का प्रमाण मतदाता पहचान पत्र / पासपोर्ट / आधार कार्ड /ड्राइविंग लाइसेंस
  • पैन कार्ड कंपनी / फर्म / व्यक्ति के लिए
  • 6 -12 महीने के बैंक विवरण
  • व्यवसाय पंजीकरण और निरंतरता प्रमाण आईटीआर / व्यापार लाइसेंस / स्थापना / बिक्री कर प्रमाण पत्र
  • 2 – 3 वर्षों के नवीनतम आईटीआर (बैलेंस शीट और लाभ और हानि विवरण सहित) और अनुमानित स्वघोषित वित्तीय विवरण सीए द्वारा प्रमाणित
  • एकमात्र प्रोप घोषणा या साझेदारी की प्रमाणित प्रति, डीड, मेमोरेंडम एंड एसोसिएशन ऑफ एसोसिएशन की प्रमाणित प्रतिलिपि (निदेशक द्वारा प्रमाणित) और बोर्ड संकल्प (मूल) की प्रमाणित प्रतिलिपि
  • मौजूदा ऋण के अधिग्रहण के लिए, अनुमोदन आदेश प्रतियां और खाता विवरण

नोट ऋण राशि, ब्याज दर, दस्तावेज़, योग्यता आदि ऋणदाता से ऋणदाता भिन्न होते है | ऋणराशि और ब्याज दर पर अंतिम निर्णय ऋणदाता का ही होता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *